सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्‍वाड क्‍या है। क्‍वाड्रीलेटरल सुरक्षा वार्त्ता।

क्‍वाड हिंद और प्रशांत महासागर से लगे हुए देश भारत, अमेरिका, आस्‍ट्रेलिया और जापान का समूह है। क्‍वाड शब्‍द 'क्‍वाड्रीलेटरल सुरक्षा वार्ता' के क्‍वाड्रीलेटरल (चतुर्भज) से लिया गया है। आधिकारिक तौर पर यह एक औपचारिक गठबंधन नहीं है बल्कि यह एक अनौपचारिक रणनीतिक मंच है। लक्ष्‍य।  क्‍वाड का उदेश्‍य भारत-प्रशांत क्षेत्र में लोकतांत्रिक देशों के हितों की रक्षा करना और वैश्विक चुनौतियों का समाधान करना है। इनमें समुद्री सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दे के अलावा वर्तमान में कोरोना महामारी भी शामिल है। क्‍वाड को चीन के बढ़ते प्रभाव और विस्‍तारवादी महत्‍वाकांक्षाओं का मुकाबला करने के प्रयास के रूप में भी देखा जाता है। शुरूआत। 2006 में तत्‍कालीन जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे क्‍वाड के गठन पर विचार करने वाले पहले व्‍यक्ति थे। थोड़ा सा पीछे जाएं तो क्‍वाड जैसे समूह को बनाने की जरूरत पहली बार 2004 में आई सुनामी के बाद पड़ा, जब भारत ने जापान, अमेरिका और आस्‍ट्रेलिया के साथ मिलकर प्रभावित क्षेत्रों में युद्धस्‍तर पर बचाव अभियान चलाया था। पहली बैठक। 4 देशों के इस समूह की पहली बैठक 2007 में फि

Disclaimer (अस्वीकरण)

 डीबीएन के लिए अस्वीकरण (Disclaimers for Daily Bihar News)

यदि आपको किसी और जानकारी की आवश्यकता है या हमारी साइट के अस्वीकरण (Disclaimer) के बारे में कोई प्रश्न हैं, तो कृपया बेझिझक हमसे contact.dailybiharnews@gmail.com पर ईमेल द्वारा संपर्क करें। 


Disclaimers for Daily Bihar News

इस वेबसाइट पर सभी जानकारी - https://www.dailybiharnews.in - सद्भावना में और केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से प्रकाशित की जाती है। डेली बिहार न्यूज इस जानकारी की पूर्णता, विश्वसनीयता और सटीकता के बारे में कोई वारंटी नहीं देता है। इस वेबसाइट (डेली बिहार न्यूज) पर आपको जो जानकारी मिलती है, उस पर आप जो भी कार्रवाई करते हैं, वह पूरी तरह से आपके अपने जोखिम पर है। हमारी वेबसाइट के उपयोग के संबंध में किसी भी नुकसान और/या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।


हमारी वेबसाइट से, आप ऐसी बाहरी साइटों के हाइपरलिंक का अनुसरण करके अन्य वेबसाइटों पर जा सकते हैं। जबकि हम उपयोगी और नैतिक वेबसाइटों के लिए केवल गुणवत्ता लिंक प्रदान करने का प्रयास करते हैं, इन साइटों की सामग्री और प्रकृति पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है। अन्य वेबसाइटों के ये लिंक इन साइटों पर मिलने वाली सभी सामग्री के लिए अनुशंसा नहीं करते हैं। साइट के मालिक और सामग्री बिना किसी सूचना के बदल सकते हैं और इससे पहले कि हमारे पास एक लिंक को हटाने का अवसर हो जो 'खराब' हो गया हो।


कृपया यह भी जान लें कि जब आप हमारी वेबसाइट छोड़ते हैं, तो अन्य साइटों की अलग-अलग गोपनीयता नीतियां और शर्तें हो सकती हैं जो हमारे नियंत्रण से बाहर होती हैं। कृपया किसी भी व्यवसाय में शामिल होने या कोई भी जानकारी अपलोड करने से पहले इन साइटों की गोपनीयता नीतियों के साथ-साथ उनकी "सेवा की शर्तें" की जांच करना सुनिश्चित करें।


सहमति

हमारी वेबसाइट का उपयोग करके, आप हमारे अस्वीकरण के लिए सहमति देते हैं और इसकी शर्तों से सहमत होते हैं।


अद्यतन

क्या हमें इस दस्तावेज़ में कोई अद्यतन, संशोधन या कोई परिवर्तन करना चाहिए, उन परिवर्तनों को यहां प्रमुखता से पोस्ट किया जाएगा।


Disclaimer is created by: https://www.disclaimergenerator.net/

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

डेबिट कार्ड और क्रेडिट को लेकर आरबीआई की नई गाइडलाइन।

आरबीआई ने क्रेडिट कार्ड व डेबिट कार्ड से जुड़े नए नियमों की घोषणा की है। नए नियम 1 जुलाई 2022 से लागू होंगे। आरबीआई की यह गाइडलाइन सभी अनुसूचित बैंक और भारत में संचा‍लित सभी गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनीयों (एनबीएफसी) पर लागू होगी। भुगतान बैंंकों, राज्‍य सहकारी बैंकों और जिला केन्द्रिय सहकारी बैंकों को इससे अलग रखा गया है। डेबिट कार्ड। डेबिट कार्ड केवल उन ग्राहकों को जारी किए जाएंगे जिनके पास बचत या चालू खाता है। बैंक किसी ग्राहक को डेबिट कार्ड सुविधा का लाभ उठाने के लिए बाध्‍य नहीं करेगी और न ही किसी अन्‍य सुविधा का लाभ उठाने के लिए डेबिट कार्ड को लिंक करेंगे। अगर किसी व्‍यक्ति के नाम पर जारी कार्ड उस तक नहीं पहुंच पाया और उसका दुरूपयोग किया गया है तो ऐसे में किसी भी हानि की जिम्‍मेदाी केवल कार्ड जारीकर्ता की होगी और जिस व्‍यक्ति के नाम से कार्ड जारी किया गया है, वह इसके लिए उत्तरदायी नहीं होगा। क्रेडिट कार्ड। यदि कार्ड जारी करने की तारीख से 30 दिनों से अधिक समय तक ऐक्टिवेट नहीं किया जाता है, तो कार्ड जारीकर्ता क्रेडिट कार्ड को चालू करने के लिए ग्राहक से वन टाइम पासवर्ड आधारित सहमति लेंगे

केन्‍द्रीय विश्‍वविधालायों में अब सांसदोंं की सिफारिस पर नहीं होगा दाखिला।

विवेकाधीन संसद सदस्‍य कोटा खत्‍म। सरकार ने केन्द्रिय विधालयों में दाखिले के लिए सांसदों को प्राप्‍त विवेकाधीन कोटे को समाप्‍त कर दिया है। इसके अलावा शिक्षा मंत्रालय के कर्मचारियों के 100 बच्‍चों, सांसद और केवी के सेवानिवृत कर्मचारियों के बच्‍चों व आश्रित पोते-पोतीयों तथा स्‍कूल प्रबंधन समिति के अध्‍यक्ष के विवेकाधीन कोटा सहित अन्‍य कोटे को भी समाप्‍त कर दिया गया है। क्‍या था सांसद कोटा? इस कोटे के तहत प्रत्‍येक सांसद हर शैक्षणिक वर्ष में कक्षा 1 से 9 तक में दाखिले के लिए अपने निर्वाचन क्षेत्र से १० छात्रों की सिफारिस कर सकता था। आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2021-22 में, सांसद कोटे से 7301 छात्रों का प्रवेश हुआ। वर्तमान में, लोकसभा में 543सांसद और राज्‍यसभा में 245 सांसद है, इस प्रकार हर वर्ष इस कोटे से केवी में 7880 छात्रों के प्रवेश संभव थे। कैसे हुई शुरूआत? दिसंबर 2021 में बीजेपी सांसद सुशील कुमार मोदी ने संसद में सांसद कोटे को समाप्‍त किए जाने की मांग उठाई। उन्‍होंने कहा कि जब नवोदय विद्यालयों, केन्द्रिय विश्‍वविधालयों, आइआइटी और आइआइएम जैसे संस्‍थानों में सांसदों को दाखिले का अधिकार नहीं

बिहार जमीन सर्वे 2022, कैसे कराएं अपनी जमीन का सर्वे।

बिहार  में जमीन सर्वे का काम कुछ जिलों में शुरू हो चुका है, तथा और बचे हुए जिलों में जल्द ही जमीन सर्वे का काम शुरू होने वाला है। जमीन सर्वे का कार्य एक शिविर लगाकर किया जाएगा। जिसमें राजस्व कर्मी, सहायक बंदोबस्त पदाधिकारी, कानूनी सलाहकार और अमीन  होंगे।  डिजिटल नक्शा तैयार होने के बाद लोगों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। और अगर, इसके बाद किसी भी आम जनता को कोई शिकायत है, तो उसकी आपत्ति दर्ज कर सुधार किया जाएगा। कैसे कराएं अपनी जमीन का सर्वे।  सबसे पहले आप ऑफिशियल वेबसाइट  https://dlrs.bihar.gov.in   से एप्लीकेशन फॉर्म (प्रपत्र) डाउनलोड करें।  यदि आपने किसी से जमीन खरीदी है या उसका केवला आपके पास है तो आप प्रपत्र-2 को भरें।  यदि आप की जमीन पुश्तैनी यानी दादा परदादा की है और इसे आप अपने नाम कराना चाहते हैं। तो प्रपत्र-2 और इसके अतिरिक्त और दो पेज वंशावली का भी भरना होगा।  आवेदन पत्र को अच्छी तरह भरकर अपने पंचायत या ब्लॉक में जब भी शिविर लगेगा वहां आप इसे शिविर प्रभारी के पास जाकर जमा कर सकते हैं।  आवेदन के साथ लगने वाले दस्तावेज।  यदि आपके पास केवाला है, तो उसकी फोटो कॉपी।  जमीन का रसीद तथा