सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्‍वाड क्‍या है। क्‍वाड्रीलेटरल सुरक्षा वार्त्ता।

क्‍वाड हिंद और प्रशांत महासागर से लगे हुए देश भारत, अमेरिका, आस्‍ट्रेलिया और जापान का समूह है। क्‍वाड शब्‍द 'क्‍वाड्रीलेटरल सुरक्षा वार्ता' के क्‍वाड्रीलेटरल (चतुर्भज) से लिया गया है। आधिकारिक तौर पर यह एक औपचारिक गठबंधन नहीं है बल्कि यह एक अनौपचारिक रणनीतिक मंच है। लक्ष्‍य।  क्‍वाड का उदेश्‍य भारत-प्रशांत क्षेत्र में लोकतांत्रिक देशों के हितों की रक्षा करना और वैश्विक चुनौतियों का समाधान करना है। इनमें समुद्री सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दे के अलावा वर्तमान में कोरोना महामारी भी शामिल है। क्‍वाड को चीन के बढ़ते प्रभाव और विस्‍तारवादी महत्‍वाकांक्षाओं का मुकाबला करने के प्रयास के रूप में भी देखा जाता है। शुरूआत। 2006 में तत्‍कालीन जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे क्‍वाड के गठन पर विचार करने वाले पहले व्‍यक्ति थे। थोड़ा सा पीछे जाएं तो क्‍वाड जैसे समूह को बनाने की जरूरत पहली बार 2004 में आई सुनामी के बाद पड़ा, जब भारत ने जापान, अमेरिका और आस्‍ट्रेलिया के साथ मिलकर प्रभावित क्षेत्रों में युद्धस्‍तर पर बचाव अभियान चलाया था। पहली बैठक। 4 देशों के इस समूह की पहली बैठक 2007 में फि

10 मई 1857: प्रथम स्‍वतंत्रता संग्राम।

29 मार्च 1857 को भारतीय सिपाही मंगल पांडे ने एक ब्रिटिश अधिकारी पर गोली चला दी। अंग्रेजों ने मंगल पांडे का कोर्ट मार्शल किया और 8 अप्रैल 1857 को उन्‍हें फांसी की सजा दे दी गई। इस घटना ने 10 मई 1857 के विद्रोह की नींव डाल दी थी।
1857 Ki kranti

चिंगारी।

ब्रिटिश सैनिक भारतीय सैनिकों के साथ भेदभाव करते थे। मेरठ में तैनात कुछ भारतीय सिपाहियों ने नए कारतूसों से फौजी अभ्‍यास करने से मना कर दिया। इन सिपाहियों का मानना था कि कारतूसों पर जानवरों की चर्बी का लप चढ़ा हुआ है। 9 मई 1857 को 85 भारतीय सैनिकों को अफसरों का हुक्‍म ना मानने के कारण नौकरी से निकाल दिया गया और उन्‍हें 10-10 साल की सजा सुनाई गई।

युद्ध का ऐलान।

19 मई 1857 को सिपाहियों ने मेरठ की जेल पर धावा बोलकर वहां बंद भारतीय सिपाहियों को आजाद करा लिया। विद्रोही सिपाहियों ने अंग्रज अफसरों पर हमला कर उन्‍हें मार गिराया। हथियारों पर कब्‍जा कर अंग्रेज की संपत्तियों को आग हवाले कर दिया गया। इस तरह अंग्रजों के खिलाफ युद्ध का ऐलान हो गया।

मेरठ से दिल्‍ली तक विद्रोह।

मेंरठ के कुछ सिपाहियों की टोली 10 मई की रात घोडों पर सवार होकर दिल्‍ली पहुंच गई। उन्‍हें देखकर दिल्‍ली में तैनात भारतीय सिपाहियों ने भी बगावत कर दी। भारतीय सिपाहियों ने हथियार व गोला बारूद कब्‍जे में लेकर इमरतों में आग लगा दी। विजयी सिपाही बहादुर शाह जफर से मिलने के लिए लाल किले के पास जमा हो गए।

बहादुर शाह जफर।

अंग्रेजों के खिलाफ क्रांति करने वाले भारतीय सिपाही देश का शासन बहादुर शाह जफर को सौंपना चाहते थे। हालांकि, बहादुर शाह अंग्रेजों की भारी ताकत से टकराना नहीं चाहते थे। लेकिन सिपाही जबरन महल में घुस आए और आखिरकार बहादुर शाह काे यह मांग माननी पड़ी। बहादुर शाह ने देश के शासकों को चिटठी लिखकर अंग्रेजों के खिलाफ एक भारतीय राज्‍यों का संघ बनाने का आह्वान किया।

अंग्रेजों के खिलाफ एकजुट हुआ देश। 

अब देश के लगभग हर रेजीमेंट के सिपाहियों ने विद्रोह कर दिया। विद्रोह के कुछ केंद्र थे- कानपुर, लखनऊ, अलीगढ़, आगरा, आरा, दिल्‍ली और झांसी। कस्‍बों और गांवों के लोग भी बागी होकर स्‍थानीय नेताओं, जमींदारों और मुखियाओं के पीछे संगठित हो गए, ये लोग अपनी सत्ता स्‍थापित करने और अंग्रेजों से लोहा लेने को तैयार थें।

अंग्रेज अपरजेय नहीं।

1857 के विद्रोह से साफ हो गया था कि अंग्रेज अपराजेय नहं है। सितंबर 1857 में दिल्‍ली दोबारा अंग्रेजों के कब्‍जे में आ गई लेकिन अगले 2 वर्षों तक उन्‍हें विद्रोह का सामना करना पड़ा। कुछ अन्‍य विद्रोहियों और नेताओं में रानी लक्ष्‍मीबाई, वीर कुंवर सिंह, बहादुर शाह, नाना साहिब, तातिया टोपे और बेगम हजरत महल शामिल थें।

विद्रोह का असर।

ब्रिटिश संसद में 1857 में एक नया कानून पारित कर ईस्‍ट इंडियां कंपनी के सारे अधिकार ब्रिटिश साम्राज्‍य को सौंप दिए ताकि भारतीय मामलों केा ज्‍यादा बेहतर ढंग से संभाला जो सके। देश के सभी शासकों को भरोसा दिया गया कि भविष्‍य में कभी भी उनकी जमीनों पर कब्‍जा नहीं किया जाएगा। अंग्रेजोंं ने फैसला किया कि वे भारत के लोगों को धर्म और सामाजिक रीत-रिवाजों का सम्‍मान करेंगें।


तारीख: 10/05/2022
लेखक: निशांत कुमार।             

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

डेबिट कार्ड और क्रेडिट को लेकर आरबीआई की नई गाइडलाइन।

आरबीआई ने क्रेडिट कार्ड व डेबिट कार्ड से जुड़े नए नियमों की घोषणा की है। नए नियम 1 जुलाई 2022 से लागू होंगे। आरबीआई की यह गाइडलाइन सभी अनुसूचित बैंक और भारत में संचा‍लित सभी गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनीयों (एनबीएफसी) पर लागू होगी। भुगतान बैंंकों, राज्‍य सहकारी बैंकों और जिला केन्द्रिय सहकारी बैंकों को इससे अलग रखा गया है। डेबिट कार्ड। डेबिट कार्ड केवल उन ग्राहकों को जारी किए जाएंगे जिनके पास बचत या चालू खाता है। बैंक किसी ग्राहक को डेबिट कार्ड सुविधा का लाभ उठाने के लिए बाध्‍य नहीं करेगी और न ही किसी अन्‍य सुविधा का लाभ उठाने के लिए डेबिट कार्ड को लिंक करेंगे। अगर किसी व्‍यक्ति के नाम पर जारी कार्ड उस तक नहीं पहुंच पाया और उसका दुरूपयोग किया गया है तो ऐसे में किसी भी हानि की जिम्‍मेदाी केवल कार्ड जारीकर्ता की होगी और जिस व्‍यक्ति के नाम से कार्ड जारी किया गया है, वह इसके लिए उत्तरदायी नहीं होगा। क्रेडिट कार्ड। यदि कार्ड जारी करने की तारीख से 30 दिनों से अधिक समय तक ऐक्टिवेट नहीं किया जाता है, तो कार्ड जारीकर्ता क्रेडिट कार्ड को चालू करने के लिए ग्राहक से वन टाइम पासवर्ड आधारित सहमति लेंगे

केन्‍द्रीय विश्‍वविधालायों में अब सांसदोंं की सिफारिस पर नहीं होगा दाखिला।

विवेकाधीन संसद सदस्‍य कोटा खत्‍म। सरकार ने केन्द्रिय विधालयों में दाखिले के लिए सांसदों को प्राप्‍त विवेकाधीन कोटे को समाप्‍त कर दिया है। इसके अलावा शिक्षा मंत्रालय के कर्मचारियों के 100 बच्‍चों, सांसद और केवी के सेवानिवृत कर्मचारियों के बच्‍चों व आश्रित पोते-पोतीयों तथा स्‍कूल प्रबंधन समिति के अध्‍यक्ष के विवेकाधीन कोटा सहित अन्‍य कोटे को भी समाप्‍त कर दिया गया है। क्‍या था सांसद कोटा? इस कोटे के तहत प्रत्‍येक सांसद हर शैक्षणिक वर्ष में कक्षा 1 से 9 तक में दाखिले के लिए अपने निर्वाचन क्षेत्र से १० छात्रों की सिफारिस कर सकता था। आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2021-22 में, सांसद कोटे से 7301 छात्रों का प्रवेश हुआ। वर्तमान में, लोकसभा में 543सांसद और राज्‍यसभा में 245 सांसद है, इस प्रकार हर वर्ष इस कोटे से केवी में 7880 छात्रों के प्रवेश संभव थे। कैसे हुई शुरूआत? दिसंबर 2021 में बीजेपी सांसद सुशील कुमार मोदी ने संसद में सांसद कोटे को समाप्‍त किए जाने की मांग उठाई। उन्‍होंने कहा कि जब नवोदय विद्यालयों, केन्द्रिय विश्‍वविधालयों, आइआइटी और आइआइएम जैसे संस्‍थानों में सांसदों को दाखिले का अधिकार नहीं

बिहार जमीन सर्वे 2022, कैसे कराएं अपनी जमीन का सर्वे।

बिहार  में जमीन सर्वे का काम कुछ जिलों में शुरू हो चुका है, तथा और बचे हुए जिलों में जल्द ही जमीन सर्वे का काम शुरू होने वाला है। जमीन सर्वे का कार्य एक शिविर लगाकर किया जाएगा। जिसमें राजस्व कर्मी, सहायक बंदोबस्त पदाधिकारी, कानूनी सलाहकार और अमीन  होंगे।  डिजिटल नक्शा तैयार होने के बाद लोगों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। और अगर, इसके बाद किसी भी आम जनता को कोई शिकायत है, तो उसकी आपत्ति दर्ज कर सुधार किया जाएगा। कैसे कराएं अपनी जमीन का सर्वे।  सबसे पहले आप ऑफिशियल वेबसाइट  https://dlrs.bihar.gov.in   से एप्लीकेशन फॉर्म (प्रपत्र) डाउनलोड करें।  यदि आपने किसी से जमीन खरीदी है या उसका केवला आपके पास है तो आप प्रपत्र-2 को भरें।  यदि आप की जमीन पुश्तैनी यानी दादा परदादा की है और इसे आप अपने नाम कराना चाहते हैं। तो प्रपत्र-2 और इसके अतिरिक्त और दो पेज वंशावली का भी भरना होगा।  आवेदन पत्र को अच्छी तरह भरकर अपने पंचायत या ब्लॉक में जब भी शिविर लगेगा वहां आप इसे शिविर प्रभारी के पास जाकर जमा कर सकते हैं।  आवेदन के साथ लगने वाले दस्तावेज।  यदि आपके पास केवाला है, तो उसकी फोटो कॉपी।  जमीन का रसीद तथा