नीतीश कुमार के काफिले पर चले ईट-पत्थर को लेकर तेजस्वी और संजय सिंह में छिरी खुलेआम जंग!

sanjay singh tejaswi yadav

file pic

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर हमले को लेकर बिहारी की राजनीति गर्मा गई है. जहां तेजस्वी यादव इसको बड़ा मुद्दा बनाने के फ़िराक में लगे हैं वही जदयू उनके सभी आरोपों का मुंहतोड़ जवाब दे रही है…

हमले के बाद तेजस्वी यादव ने कहा:

माननीय मुख्यमंत्री के काफ़िले पर हमला बेहद चिंतनीय है।जिस दिन से समीक्षा यात्रा शुरू हुई उसी दिन से हर जिले मे मुख्यमंत्री को विरोध, प्रदर्शन और नारेबाज़ी का दुखद सामना करना पड़ रहा है।मैंने शुरू मे ही कहा था मुख्यमंत्री जी पहले अपने व्यक्तित्व और राजनीतिक चरित्र की समीक्षा करें

संजय सिंह ने जवाब दिया:

समीक्षा यात्रा में अड़ंगा डालना आरजेडी का चरित्र है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के व्यक्तित्व पर टिप्पणी करने का कद आपके पास नहीं। अनुकम्पा में पहले डिप्टी सीएम बने और अब नेता प्रतिपक्ष। भ्रस्टाचारी चरित्र पर चिंतन बिरसा मुंडा कारावास में चल रहा होगा…. जल्द ही ये अवसर आपको भी

तेजस्वी यादव: पूरा सरकारी तंत्र शातिर तरीक़े से मुख्यमंत्री के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन को कहीं कोई ख़बर नहीं बनने देता. कहीं जुता-चप्पल चल रहा है, हवाई फ़ायरिंग करनी पड़ रही है, कहीं पुलिसकर्मियों को निलंबित किया जा रहा है, दलितों को भगाया जा रहा है. नियोजित शिक्षको को दुत्कारा जा रहा है.

मुख्यमंत्री नीतीश जी आत्ममनन और चिंतन करें कि हर जगह, हर समय और हर क्षेत्र के लोग उनका विरोध क्यों और किसलिए कर रहे है? मुख्यमंत्री बताये किस असुरक्षा की भावना से ग्रस्त होकर वो शिक्षा,स्वास्थ्य,विकास और रोज़गार जैसे अतिज़रूरी और गंभीर मसलों को छोड़कर दूसरा राग अलाप रहे है?

तेजस्वी यादव: बिहार में सरेआम मुख्यमंत्री पर हमला हो रहा है लेकिन महाजंगलराज पर कोई विमर्श नहीं क्योंकि जंगलराज अलापने वाले श्री श्री मंगलम श्री सुशील मोदी उपमुख्यमंत्री है.

संजय सिंह का जवाब: ये नब्बे के दशक का जंगलराज नहीं.. 2018 का सुशासन है. यहां अपराधी सड़क पर नहीं सलाखों के पीछे होते हैं. मुख्यमंत्री जनता के बीच जाते हैं…


इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *