पप्पू यादव ने सुमित्रा महाजन को सौंपा इस्तीफा, आगे जो कहा आप भी करेंगे तारीफ….

pappu yadav

आपका सेवक आपका द्वार कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए पप्पू यादव ने आज रूबन अस्पताल के बाहर धरने पर बैठ कर गरीब असहाय दर्जनों मरीजों का इलाज कराया. पप्पू यादव ने कहा कि आईजीआईएमएस के अधीक्षक ने मुख्य सचिव के इशारे पर हमारे और दर्जनों समर्थकों पर शास्त्री नगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया. जिसको लेकर कड़ी आपत्ति जताते हुए पप्पू यादव ने आज लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के नाम अपना इस्तीफा सौंप दिया. इस्तीफा में यह बताया है कि यदि किसी चयनित जनप्रतिनिधि को जनता की सेवा का अधिकार नहीं है तो हमें इस पद पर बने रहने के लिए हमारा जमीर गवाही नहीं देता है.

उन्होंने यह भी कहा कि आईजीआईएमएस के अधीक्षक एसके सिन्हा ने फोन पर यह कहा है कि हमें गृह सचिव और मुख्य सचिव से मुकदमा दायर करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है. इन सबके बावजूद यदि हमारा इस्तीफा नहीं मंजूर किया जाता है, तो आने वाले संसद सत्र में हम सदन में खड़े होकर अपना इस्तीफा अध्यक्ष को सौंपेंगे.

सर्वोच्च न्यायालय के जज द्वारा आज बुलाया गया प्रेस कॉन्फ्रेंस में जिन मुद्दों को उठाया गया है उस पर तीखा हमला बोलते हुए जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और मधेपूरा से सांसद पप्पू यादव ने कहा कि अविलंब 48 घंटे के अंदर संसद का सत्र बुलाया जाना चाहिए और इस मुद्दे पर गंभीर रूप से चर्चा किया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि बिहार में लोकतंत्र पहले से ही खतरे में था, साथ ही आज सर्वोच्च न्यायालय के 4 जजों द्वारा आयोजित प्रेस वार्ता देश की लोकतंत्र को खतरे में बताने के लिए काफी है. साथ ही साथ पप्पू यादव ने आगामी 21 जनवरी को बिहार सरकार के आह्वान पर शराबबंदी, दहेजबंदी और बाल विवाह विरोधी अभियान को सफल बनाने के लिए बनाई जा रही मानव श्रृंखला का लोगों से विरोध करने का अपील भी किया है.


इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *