30% तक कम हो सकता है मोबाइल बिल!

iStock_71568091_small-624x350

ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी अब मोबाइल फोन यूज़ करने वाले सब्सक्राइबर्स को आने वाले समय में काफ़ी कम बिल पे करना होगा. अगले साल तक इसमे लगभग 25 से 30% तक कम बिल चुकाना है. जो यूजर हेवी कंजंप्शन वाला डेटा यूज़ कर रहे है उनके बिल में भारी गिरावट आ सकती है. इसकी मुख्य वजह ऐनालिस्टों और इंडस्ट्री इनसाइडर्स बता रहे है कि लगातार चल रही टेलिकॉम कंपनियों के बीच प्राइस वॉर है. पीछले एक साल में सब्सक्राइबर्स और यूजर्स का मोबाइल बिल में 25-32 पर्सेंट घट चुका है. इससे सबसे ज्यादा फ़ायदा डेटा के हेवी प्रीपेड यूजर्स को हुआ है, जिनके बिल में 60-70% तक गिरावट आई है.

बताया जा रहा है कि यह भारती एयरटेल, वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर के वॉइस और डेटा रेट घटाने की वजह से हुआ है. इन सारी कंपनियों ने रिलायंस जियो को टक्कर देने की वजह से अपने अपने टेलीकॉम कंपनियों के रेट घटाए हैं. इस विषय में डेलॉयट हैस्किंस ऐंड सेल्स एलएलपी के पार्टनर हेमंत जोशी का कहना है कि, ‘एवरेज मंथली मोबाइल बिल 2016 के 349 रुपये से घटकर 2017 में लगभग 240-280 रुपये रह गया है.’ जोशी ने यह भी कहा कि ‘नए बिजनस मॉडल और अग्रेसिव टैरिफ वॉर के चलते एवरेज मोबाइल मंथली बिल और 30 पर्सेंट घट सकता है’. इस विषय पर बिग फोर कंसल्टिंग कंपनियों में शामिल केपीएमजी ने भी अनुमान लगाया है कि बिल में डबल डिजिट में गिरावट आ सकती है. पिछले एक साल में मंथली मोबाइल बिल 30-32% कम हो चुका है.

बताया जा रहा है ही कि केपीएमजी इंडिया में टेलिकॉम पार्टनर और हेड मृत्युंजय कपूर का कहना है, ‘आने वाले समय में मंथली मोबाइल बिल में कमी कन्ज्यूमर को मिलने वाले डिफरेंशिएटर के असर पर डिपेंड करेगी. कुछ डिफरेंशिएटर खास कस्टमर सेगमेंट के लिए पेश किए गए हैं और उनकी कामयाबी खासतौर पर रूरल इलाकों में पहुंच और कस्टमर्स की स्वीकार्यता पर निर्भर करेगी.’

इस सुविधा के साथ मोबाइल ऑपरेटर को 28, 56 और 84 दिन के लिए 250 से 500 रुपये की रेंज में 1जीबी/2जीबी फेयर यूसेज पॉलिसी के साथ साथ अनलिमिटेड डेटा और वॉइस सर्विस नही दिया जा रहा है. आपको बता दें कि, जिन सब्सक्राइबर्स का डेली कंजंप्शन 8 जीबी डेटा से ज्यादा होता है, तो ऐसे में उनको हेवी डेटा यूजर्स कैटिगरी में रखा जायेगा. इस विषय पर ईवाई में ग्लोबल टेलिकम्यूनिकेशन्ज के लीडर प्रशांत सिंघल ने कहा कि, ‘हेवी डेटा यूजर्स के बिल में तो 60 से 70 पर्सेंट मंथली की गिरावट आई है लेकिन प्योर वॉइस सब्सक्राइबर्स के बिल में आई कमी 10 से 15 पर्सेंट मंथली तक सीमित रही है.’ एक रिसर्च के मुताबिक मासिक बिल में कमी का सबसे ज्यादा फायदा प्रीपेड कस्टमर्स को ही हुआ है. जिसमे उन्हें 22% की कमी आई है, जबकि पोस्ट पेड कस्टमर्स का बिल 10 से 15 पर्सेंट तक ही घटा है.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.



Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *