गणित से स्टूडेन्टस बिल्कुल न डरे- मैथेमेटिक्स गुरू आर के श्रीवास्तव

रोहतास के रहने वाले बिहार के चर्चित मैथेमेटिक्स गुरू आर के श्रीवास्तव ने स्टूडेन्टस को गणित से बिल्कुल न डरने तथा गणित को कैसे बेहतर किया जा सकता है उसके लिए टिप्स दिये. तथा अपने बचपन के अनुभव को देशवासियों के समक्ष रखा. मुझे बचपन मे गणित के जानकार लोग कहा करते थे क्या सीखते हो तुम? मुझ से लीलावती क्यों नहीं पढ़ते. पहले तो समझ ही नहीं आया कि लीलावती क्या है? बाद में पता लगा वह गणित की पुस्तक है.

कई वर्ष गुजरने के बाद एक दिन लीलावती हाथ लगी तो बैठ कर उस के सारे सवाल कर डाले. उन का उपयोग शायद ही कभी हो. लेकिन वे सवाल हल कर आनंद बहुत आया. कभी मन होता है कि लीलावती का हिन्दी अनुवाद कर नैट पर डाला जाए, जिस में पुराने मापों को आधुनिक से बदल दिया जाए.

वैसे गणित से डरने की जरूरत नहीं. हमारे यहाँ गांव के बन्जारे जो किसी स्कूल में नहीं पढ़े, जिन्हें लिखना और पढ़ना नहीं आता उन की मौखिक गणित को देख कर दांतो तले उंगली दबानी पढ़ती है. गणित को कैसे बेहतर करे – मैथेमेटिक्स गुरू आर के श्रीवास्तव ने स्टूडेन्टस को गणित को बेहतर कैसे करेंगे इसके बारे मे बताया.

मैथ्स से अधि‍कतर स्टूडेंट्स को डर लगता है और इसी घबराहट के चलते वे इस सब्जेक्ट को ठीक से पढ़ नहीं पाते. लिहाजा इस दिलचस्प विषय से उनकी दूरी बढ़ने लगती है.

स्टूडेंट्स हमेशा गणित विषय को लेकर यह शिकायत रहती है कि तमाम कोशिशों और मेहनत के बावजूद वे इस विषय के कठिन सवालों को हल नहीं कर पाते. अगर आप भी इस विषय की कठिनाइयों से परेशान हैं तो ये टिप्स आपके लिए हैं :

1. अगर आप किसी टॉपिक को नहीं समझ पा रहे हैं, तो उसे छोड़कर आगे बढ़ने के बजाए उसी पर फोकस करें. मान लीजिए आप एल्जेबरा पढ़ रहे हैं और आपको इसे समझने में काफी परेशानी आ रही है तो उसे छोड़ें नहीं. यह कभी नहीं सोचें कि इसे छोड़कर दूसरे चैप्टर को पढ़ना बेहतर रहेगा. गणित के सारे चैप्टर एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं. अगर आप पहले वाला कोई चैप्टर छोड़ेंगे तो आगे के चैप्टर में आपको और कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए थोड़ी और मेहनत करके पहले जो चैप्टर हाथ में है, उसे तैयार करें.

2. किताबों में दिए गए उदाहरण को जरूर बनाने का प्रयास करें. इसको हल करके देखेंगे तो आपको यह समझ मे आ जाएगा कि उस चैप्टर के सवाल कैसे होंगे. किताब के अलावा आप उदाहरणों को समझने के लिए डीवीडी, सीडीज, ऑडियो कैसेट्स का सहारा भी ले सकते हैं. चैप्टर की शुरुआत में आसान सवालों को बनाएं. स्टेप दर स्टेप आप कठिन सवालों को भी हल करने लगेंगे. गणित किताब को पढ़ने से ज्यादा बेहतर उसकी प्रैक्टिस करना होता है.

3. अगर आपको कोई गणित के सवाल समझाने या हल करने के लिए कहे तो तुरंत उसके लिए तैयार हो जाएं. आप जब किसी को बताने का प्रयास करेंगे तो आप खुद भी उसे बेहतर तरीके से समझने लगेंगे. ऐसा माना जाता है कि आप जब किसी को कुछ सिखाते हैं तो उस टॉपिक पर आपकी बेहतर पकड़ बन जाती है. इसलिए ज्यादा से ज्यादा दूसरों के सवालों को भी हल करने का प्रयास करें.

4. हमेशा अपने सॉल्यूशन को साफ-सुथरा रखें. इससे आप सवाल बनाते समय कंफ्यूज नहीं होंगे.

5.फॉर्म्यूला याद रखना गणित में सबसे ज्यादा जरूरी है. अगर आपको वह याद नहीं है तो आपका समय भी बर्बाद होगा और आप सवाल हल भी नहीं कर पाएंगे.


इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.


Loading...

Tagged with:

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *