प्रश्न पत्र लीक मामले में बिहार की साख एक बार फिर दांव पर, क्या नीतीश दिखाएंगे जाँच की हिम्मत?

nitishkumar

फाइल फोटो


प्रश्न पत्र लीक मामले में विवाद बढ़ता जा रहा हैं. पहले 29 जनवरी को प्रश्न पत्र लीक हुआ तो सचिव साहब ने बिना जाँच करवाए कह दिया कि कोई गड़बड़ी नहीं हुई हैं. लेकिन एक बार फिर आज प्रश्न और उत्तर दोनों वायरल हो गया तब भी जब डेली बिहार न्यूज़ ने सचिव परमेश्वर राम से सवाल किया तो उन्होंने जाँच से पल्ला झाड़ लिया. आखिर कब बिहार में परीक्षा में कदाचार मुक्त होगा?

अभी दो दिन पहले ही हाईकोर्ट ने जूनियर इंजिनियर की एसएससी परीक्षा को रद्द कर दिया और कई बार बिहार में इस तरह से परीक्षा रद्द हो चुके हैं. सभी जानते हैं कि हर जगह परीक्षा में सेटिंग होती हैं और कई पैसे वाले लोग पैसा देकर जॉब में आ जाते हैं लेकिन मेधावी छात्रों की जिंदगी बर्बाद हो जाती हैं. सालों से छात्र परीक्षा की तैयारी में लगे रहते हैं कि पास हो कर जॉब करेंगे लेकिन परीक्षा में अच्छा करने के बाद भी जॉब नहीं होता तो घुट-घुट कर मरते हैं, आखिर कब तक यह सब चलता रहेगा?

क्या बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस बार भी किसी नेशनल मीडिया द्वारा रिजल्ट के बाद आने वाले स्ट्रिंग का इंतजार कर रहे हैं. हम कब तक अपने सर पर चोरी करके पास करने का तमगा दुसरे राज्यों में लेकर ढ़ोते रहेंगे. नेशनल मीडिया में यह खबर वायरल होगी तो हमारे प्रदेश की और बदनामी होगी इसलिए समय आ गया कि टॉपर्स घोटाले की तरह इस मामले में भी एसआईटी बना कर छात्रों के भ्रम को दूर किया जाए और निष्पक्षता से इसकी जांच कराई जाय. हम जानते हैं कि यह मामला बिहार के सीएम नीतीश कुमार के विभाग समान्य प्रशासन के अंतर्गत आता हैं और आप इसमें तुरंत एक्शन ले सकते हैं. अगर इसपर कोई एक्शन नहीं लिया गया तो इस प्रश्नपत्र लिक मामले में आपके विभाग के साथ आप पर भी सवाल खड़े होगें साथ ही छात्रों के जीवन के साथ भी खिलवाड़ माना जाएगा. अगर मैंने सही लिखा है तो इसे हर बिहारी तक पहुंचाए. बदलाव आएगा बस थोड़ा और जोड़ लगाने की जरुरत हैं.


[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

1 Comment

  1. Anonymous February 6, 2017 at 3:40 pm

    Yes it’s true , aap ne Sahi bola hai , Bihar ko in ghushkgoro SE mukat karna padega aur iski janch jaruri honi chahiye,taki garib aur medhawi students ko saflata mil sake ,is mamle hamare cm ko ek kthorkadam uthana chahiye

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *