नीतीश के इस मास्टरस्ट्रोक से एनडीए में हुआ दो फाड़…

WhatsAppFacebook

nda


न्यूज़ डेस्क: राष्ट्रिय लोकसमता पार्टी के राष्ट्रिय अध्यक्ष और केन्द्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी आगामी 21 जनवरी को शराबबंदी के समर्थन में आयोजित हो रही मानव शृंखला में भाग लेने का फैसला लिया है. गौरतलब है की एनडीए का सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी ने पीएम मोदी के नीतीश को समर्थन के बाद प्रदेश बीजेपी ने समर्थन दिया है.

बीजेपी के इस आयोजन में शामिल होने को लेकर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिन्दुस्तान आवामी मोर्चा के राष्ट्रिय अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने शराबबंदी के समर्थन में 21 जनवरी को बनने वाले मानव श्रृंखला का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है साथ ही एनडीए में सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को सीधे-सीधे नसीहत दे डाली है उन्होंने कहा है कि एनडीए में सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी कभी शराबबंदी कानून को तालिबानी फरमान कहते थे.

मांझी ने उन सभी भाजपा नेताओं की कड़ी आलोचना किया है जो कभी इसके खिलाफत में थे और कहा है कि बीजेपी इसके समर्थन में द्वारा 21 जनवरी को मानव श्रृंखला में भाग लेने जा रही है लेकिन हम इसका विरोध करेंगें. उन्होंने कहा की पीएम नरेन्द्र मोदी के बयान गलत तरीके से लिया जा रहा है उन्होंने नशाबंदी की बात कही थी लेकिन उसे शराबबंदी के रूप में प्रचारित किय जा रहा है.

जबकि एनडीए के अन्य सहयोगी दल रालोसपा द्वारा समर्थन करने से फुट हो गई है, सरकार के ऊपर आरोप लगाते हुए मांझी ने कहा है कि इस कानून के तहत अबतक 20 हजार लोगों को दारु पीने के आरोप में जेल में दाल दिया गया है जबकि इसके अवैध धंधेबाज मोती रकम देकर छुट जा रहे हैं ऐसे में इस कानून के मौजूदा स्वरूप में बदलाब किये बिना इसका समर्थन न्यायसंगत नही है इसलिए हम इसका विरोध करेंगे. कभी महागठबंधन मव दरार की बाते सुनते-सुनते खुद एनडीए में ही दरार पैदा हो गई है मांझी का यह बयान जल्द ही एनडीए में राजनितिक संकट खड़ा करने वाली है जबकि इसपर महागठबंधन वालो को पहली बार चुटकी लेने का मौका मिल जाएगा.


इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
WhatsAppFacebook

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *