पांच साल बाद आया मकर संक्रांति का ये संयोग, जाने क्या है खास…

tilkut


इस बार की मकर संक्रांति पिछले चार साल से मनाई जा रही मकर संक्रांति से विल्कुल ही भिन्न होगा. ऐसा इसलिए होगा क्यूंकि मकर संक्रांति का ऐसा संयोग पांच साल बाद आ रहा है. इस बार यह पर्व 14 जनवरी दिन शनिवार को मनाया जाएगा, वह भी मात्र शाम में इसका संयोग बन रहा है. 2013 के मकर संक्रांति में इसी तरह का योग आया था जैसे इस बार के संक्रांति में आ रहा है.

बता दें की मकर संक्रांति में स्नान दान का खास महत्त्व माना जाता है. लोग गंगा स्नान करने जाते है, जो नहीं जा सकते है वो पास के ही नदी या फिर घर में ही स्नान करने के बाद चूड़ा, तिल और गुड़ दान करते है, इस दिन दान करने का खास महत्व माना जाता है. लोग दान करने के बाद चूड़ा-दही तिल खाते है, और शाम में खिचड़ी खाते है. बच्चे पतंग उड़ाते है और सब लोग उसी दिन से ठण्ड का समापन भी मानते हैं.

स्नान-दान का शुभ मुहूर्त: इस साल 14 जनवरी दिन शनिवार को दोपहर बाद 1.56 बजे से मकर संक्रांति का पुण्यकाल प्रारंभ हो रहा है तथा शाम 5.17 बजे तक पुण्यकाल रहेगा. इस बार केवल तीन घंटे 21 मिनट का ही शुभ काल रहेगा, इस समय में किए गए स्नान एवं दान पुरी तरह से शुभकारी होंगे.

[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *